5G क्या है और यह इंडिया में कब आएगा? What is 5G in Hindi

हेलो guys क्या आप जानते हैं कि 5G क्या है और यह इंडिया में कब आने वाला है सो अगर आप नहीं जानते हैं तो आज केस ब्लॉक को पूरा पढ़िए क्योंकि आज के blog में हम आपसे बात करने वाले हैं कि इंडिया में 5G नेटवर्क और 5G स्मार्टफोन कब तक आएगा दोस्तों देखा जाए तो बहुत सारे देशों में 5G स्मार्टफोन भी लॉन्च हो चुके हैं और 5G नेटवर्क भी आ चुका है और वहां वहां के लोग 5G का यूज भी कर रहे हैं लेकिन दोस्तो इंडिया में अभी तक 5G की टेस्टिंग भी शुरू नहीं हुई है जिओ के ओनर मुकेश अंबानी जी ने कहा था कि उन्होंने 5G नेटवर्क को ready करके रखा है जैसे ही गवर्नमेंट की तरफ से आदेश जारी होंगे वह टेस्टिंग शुरू कर देंगे और दोस्तों 5G फोंस भी दूसरे देशों में लॉन्च होते हैं लेकिन इंडिया में लॉन्च नहीं हो रहा है क्योंकि अभी तक इंडिया में 5G आया ही नहीं है दोस्तों यह बताया जा रहा है कि 2020 के अंत से इंडिया में भी 5G Network की टेस्टिंग शुरू हो जाएगी और इसे पूरी तरह से स्टेबल होने में 1 से 2 साल लग सकते हैं यानी कि आम लोगों तक 2022 में 5G फोन पहुंच सकते हैं और दोस्तों अगर 2021 में 5G फोन आए भी तो वह बहुत ही महंगे होंगे जिससे कि एक आम आदमी के लिए खरीदना बहुत ही मुश्किल होगा लेकिन दोस्तों बहुत सारे स्माटफोन ब्रांड जैसे की Xiaomi, Realme, Samsung जैसी कंपनियों का कहना है कि वह  बजट में भी 5G phones को लेकर आएंगे तो दोस्तों देखना है कि यह कंपनियां कब तक इंडिया में बजट 5G फोंस को लॉन्च करती है.


दोस्तों प्रत्येक 10 सालों में इंटरनेट के जगत में खासकर भारत में एक जेनरेशन की बढ़ोतरी होती है यानी कि प्रति 10 वर्षों में Mobile Technology के field में एक generation की बढ़ोतरी हो रही है. जैसे की शुरुवात हम First Generation (1G) सन 1980s में, Second Generation (2G) सन 1990s में, Third Generation (3G) सन 2000s में, Fourth Generation (4G) सन 2010s में, और अब Fifth Generation (5G) की बरी है. दोस्तों मोबाइल टेक्नोलॉजी और इंटरनेट की दुनिया बहुुत ही तेजी से विकसित हो रही है जैसेे-जैसे टेक्नोलॉजी का विकास होगा हमें फास्ट इंटरनेट की जरूरत पड़ेगी शुरू करते हैं और जानते हैं की 5G नेटवर्क क्या है और 5G इंडिया में कब आएगा?

What is 5G? 

5G क्या है और यह इंडिया में कब आएगा? What is 5G in Hindi

दोस्तों 5G का फुल फॉर्म है Fifth Generation और दोस्तों यह नेटवर्क की दुनिया का लेटेस्ट जेनरेशन है यानी कि इससे  पहले 4G था जो कि फोर्थ जनरेशन के नाम से जाना जाता था दोस्तों 5G में आपको नेटवर्क की स्पीड सिम कार्ड के माध्यम से 100MB से 1GB तक देखने को मिलेगी जबकि अगर आप ब्रॉडबैंड या फाइबर का यूज करते हैं तो फिर आप को मिनिमम 1GB से 20gb तक की स्पीड देखने को मिलेगी जो कि बहुत ही ज्यादा है. दोस्तों इसके साथ ही नहीं इसमें लेटेंसी भी बहुत ही कम होगी यानी कि 1ms तक की Latency देखने को मिलेगी Guy's इसी लेटेंसी को पिंग भी कहा जाता है आपने पिंग का नाम पबजी खेला होगा तो जरूर सुना होगा कि मेरा पिंग तो 100ms आता है या फिर 20ms किसी का 60s तो दोस्तों उसी पिंग के बारे में बात की जा रही है 5G में आपको 1ms ping देखने को मिलेगा.

Top features of 5G technology 

1. दोस्तों इसमें आपको इंटरनेट की स्पीड बहुत ही ज्यादा देखने को मिलेगी इसमें कम से कम 100MB की स्पीड और ज्यादा से ज्यादा 2GB तक की स्पीड देखने को मिलेगी जबकि 4G में ज्यादा से ज्यादा आपको 100MB की स्पीड देखने को मिलती थी
2. दोस्तों इसमें आपको बहुत सारे डिवाइसेज को एक साथ आसानी से कनेक्ट कर सकते हैं
3. दोस्तों इसमें आपको लेटेंसी 1 मिली सेकंड यानी कि 1ms तक देखने को मिलेगी यानी कि रिस्पांस टाइम बहुत ही ज्यादा होगा अगर आप कोई भी मल्टीप्लेयर गेम खेलते हैं तो आपको बहुत ही ज्यादा फायदा होगा
4. दोस्तों इसमें आपको buffering, बहुत ही कम देखने को मिलेगी यानी कि अगर आप कोई भी वीडियो को स्ट्रीम करते हैं तो बफर बहुत ही कम होगा

Also Read it :-




5G technology काम कैसे करेगी?


Wireless networks में मुख्य रूप से cell sites होते हैं जिन्हें की sectors में divide किया गया होता है जो की radio waves के माध्यम से data send करते हैं. ये कहना गलत नहीं होगा की Fourth-generation (4G) Long-Term Evolution (LTE) wireless technology ने ही 5G का foundation तैयार किया था. जहाँ 4G, में बड़े, high-power cell towers की जरुरत होती है signals को radiate करने के लिए longer distances में, वहीँ 5G wireless signals को transmit करने के लिए बहुत सारे small cell stations की जरूरत होती है जिन्हें की छोटी छोटी जगह जैसे की light poles या building roofs में लगाया जा सकता है. यहाँ पर multiple small cells का इस्तमाल इसलिए होता है क्यूंकि ये millimeter wave spectrum में — band of spectrum हमेशा 30 GHz से 300 GHz के भीतर ही होती है और चूँकि 5G में high speeds पैदा करने की जरुरत होती है, जो की केवल short distances ही travel कर सकता है. इसके अलावा ये signals किसी भी weather और physical obstacles, जैसे की buildings से आसानी से interfere हो सकते हैं.

Also Need us 5G applicable Smartphone and devices 

दोस्तों 5G नेटवर्क के होने के साथ-साथ हमें इसे यूज करने के लिए 5G एप्लीकेबल स्मार्टफोंस और डिवाइस भी होनी चाहिए इसमें की कुछ कंपनियों ने कहा कि वह जल्द ही भारत में अपना 5G स्मार्टफोन लॉन्च करेंगे और साथ ही साथ 5G तेज चलने वाली स्मार्ट टीवी और स्मार्ट डिवाइसेज भी लॉन्च होंगे

Conclusion

दोस्तों आशा करता हूं कि आपको 5G क्या है और यह इंडिया में कब आएगा what is 5G in Hindi के बारे में जानकारी पसंद आई होगी दोस्तों इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर कीजिएगा क्योंकि उन्हें भी तो पता चले कि 5G इंडिया में कब आएगा और फायदा चाहिए सच में होता क्या है और दोस्तों हमें कमेंट करके जरूर बताइएगा कि आपको यह ब्लॉग कैसी लगी friends आपका कीमती समय देने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद!!!

एक टिप्पणी भेजें

1 टिप्पणियाँ

Thanks for sharing your thoughts..